Blog Header Naaz-E-Hind

Blog Header Naaz-E-Hind

Tuesday, January 17, 2017



साथियों,
जय हिन्द!
नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की अन्तर्राष्ट्रीय-गतिविधियों तथा उनके अन्तर्ध्यान-रहस्य पर पर्याप्त जानकारियाँ न पाकर मैं अपनी किशोरावस्था में क्षुब्ध हुआ करता था। इसलिए मैंने इस लेखमाला (पहले यह एक ब्लॉग था, अब एक पुस्तक) को तैयार किया- ताकि अब कोई भारतीय किशोर या युवा मेरी तरह क्षुब्ध न हो।
      मेरी नजर में भारतीय किशोरों एवं युवाओं के लिए यह एक “अवश्य पढ़ें” (Must Read) रचना है।
अगर आप इसे इस ब्लॉग पर ही पढ़ना चाहें, तो अच्छी बात है, मगर यहाँ ‘क्रम’ उल्टा हो गया है- पहला अध्याय सबसे नीचे चला गया है, तो अन्तिम अध्याय सबसे ऊपर आ गया है- जबकि पुस्तक में इसका क्रम सीधा है। वैसे, अब मैं अगली पोस्ट में ‘अनुक्रमणिका’ (विषय-सूची) डाल रहा हूँ, जहाँ प्रथम से अन्तिम अध्याय को बारे-बारी से क्लिक करते हुए शुरु से अन्त तक लेखमाला को पढ़ा जा सकता है।
दूसरी बात, eBook/पुस्तक संस्करण 80 से ज्यादा चित्रों आदि से सुसज्जित है, जिनमें से कुछ को दुर्लभ चित्र कहा जा सकता है।     
और भी कुछ बातें हैं, जिनके आधार पर मैं तो यही सलाह दूँगा कि इस रचना या लेखमाला को आप ‘पुस्तक’ के रुप में ही पढ़ें- हाँ, ब्लॉग पर शुरु से अन्त तक एक सरसरी निगाह डालकर आप इसकी ‘पठनीयता’ पर आसानी से निर्णय ले सकते हैं।
यह रचना eBook एवं Print Book, दोनों ही संस्करणों में उपलब्ध है
***
eBook संस्करण के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें




...और मुद्रित पुस्तक के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।




इति,
                                                -जयदीप शेखर

पुनश्च:

ब्लॉग से किसी अंश को सोशल मीडिया पर या कहीं भी उद्धृत करते समय कृपया इस ब्लॉग (या सम्बन्धित लिंक) का जिक्र करने का कष्ट करें।

*****

No comments:

Post a Comment